जब आपत्तिजनक हालत में पकड़ी गई थीं पाकिस्तान की ये खूबसूरत पूर्व विदेश मंत्री !

926

दिल्लीः पाकिस्तान की पूर्व विदेश मंत्री हीना रब्बानी अपनी काबिलियत से ज्यादा अपनी खूबसूरती की वजह से चर्चा में रही है, भारत के एक चैनल ने तो उन्हें विश्व की सबसे सुंदर महिला का ताज पहना दिया था, तो अमेरिकी अखबार ब्रिटीले ने उन्हें सबसे स्टाइलिश महिला का खिताब दिया, लेकिन इन दिनों वो किसी दूसरे कारण से सुर्खियों में है, दरअसल पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी और बेनजीर भुट्टो के बेटे बिलावल भुट्टो की वजह से वो चर्चा में हैं। Hina Rabbani, Bilawal.

हिना रब्बानी और बिलावल के बीच रिश्तों को लेकर हुआ खुलासा –

बांग्लादेशी न्यूज एजेंसी टेबलॉयड दी ब्लिट्ज ने दावा किया है कि हिना रब्बानी और बिलावल भुट्टो के बीच जिस्मानी ताल्लुकात थे। इसी एजेंसी ने दावा किया है कि हिना के पति का उसके ऑफिस की ही किसी महिला के साथ चक्कर था, और हिना ने उन्हें रंगे हाथ पकड़ लिया था, वो नींद की गोलियां खाकर मरना चाहती थी, वो डिप्रेशन में चली गई थी, लेकिन ऐसे समय में बिलावल उनके करीब आए, उन्हें डिप्रेशन से बाहर निकाला, बिलावल से मिले प्यार की वजह से हिना उन्हें गिफ्ट्स भेजने लगी।

जब हिना और बिलावल पकड़े गए  –

आसिफ अली जरदारी को मामले का पता तब चला जब ईद के मौके पर तीनों यूएन में थे, तो हिना ने बिलावल को गुलदस्ता भेजा था, जिसमें एक रोमांटिक संदेश भी था, उस गुलदस्ते में लिखा था, हमनें काफी इंतजार किया है अब इस इंतजार की इंतेहां होनी चाहिये। जैसे ही जरदारी बिलावल के पीछे गए तो उन्होने हिना और बिलावल को अंतरमस्त अवस्था में पाया। जरदारी के विरोध के बाद हिना और बिलावल से उनकी बहस भी हुई। मामले की जानकारी जब हिना के पति को हुआ तो उसने भी आपत्ति जताई। लेकिन बिलावल इन चीजों को नजरअंदाज कर हिना से निकाह करना चाहता था, लेकिन अपनी पारिवारिक मर्यादाओं की वजह से हिना पीछे हट गई और बिलावल ने पाकिस्तान छोड़ दिया।

और अलग हो गए हिना और बिलावल –

यहीं से हिना और बिलावल एक-दूसरे से अलग हो गए, बिलावल की मां बेनजीर भुट्टों भी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर और अब राजनेता इमरान खान के साथ इश्क फरमा चुकी है, इस बात का खुलासा खुद इमरान खान ने अपनी किताब में की है। हालांकि अब हिना रब्बानी और बिलावल भुट्टों के इश्क का मामला ठंडा हो चुका है, लेकिन इसे काफी समय तक पाकिस्तान में याद किया जाएगा।