कई लोग ये नहीं जानते कि ऐंज़ाइटी (anxiety) यानि घबराहट मेंटल डिसऑर्डर का ही एक विकार है। इससे धीरे-धीरे आपकी लाइफ प्रभावित हो सकती है। इतना ही नहीं इसके कारण आपको अपने रोजाने के काम भी जटिल लग सकते हैं। हालांकि आप अपनी डायट में सुधार करके इस समस्या से काफी हद तक छुटकारा पा सकते हैं। घबराहट के लक्षणों को कम करने के लिए ये सात चीजें जरूर खाएं। बादाम और अखरोट- ये विटामिन ई, जिंक, मैग्नीशियम और बी 12 के अच्छे स्रोत हैं और चिंता या तनाव के दौरान इम्यून सिस्टम को बचाते हैं। इसलिए रोजाना तीन से चार बादाम या अखरोट खाएं। कद्दू के बीज- इसमें एमिनो एसिड होता है, जो एल ट्रैपटोफैन से जाना जाता है। ये दिमाग में सेरोटोनिन का लेवल बदलने में सहायक है। सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर है, जो मूड को बैलेंस रखता है। फर्मेन्टड फूड्स- अध्ययन के अनुसार, फर्मेन्टड फूड्स में प्रोबायोटिक्स होता है, जिस वजह से ये चिंता को कम करने में सहायक है। इसलिए आपको दही, ढोकला, इडली और डोसा जैसी चीजें खानी चाहिए। मैग्नीशियम वाली चीजें- मैग्नीशियम दिमाग में कोर्टिसोल (Cortisol) का लेवल रेगुलेट करने में सहायक है। कोर्टिसोल तनाव कम करता है जिससे आप अच्छा महसूस करते हैं। इसके लिए आप पालक, केला, मछली जैसी चीजें खाएं। ओमेगा -3 फैटी एसिड- अध्ययनों के अनुसार ओमेगा -3 फैटी एसिड से तनाव और चिंता को कम करने में मदद मिलती है। इसके लिए फ्लैक्ससीड, सैमन, अंडे, चिया सीड्स और सोयाबीन खाएं। संतरे- विटामिन सी की कमी के कारण ऐंज़ाइटी डिसऑर्डर हो सकता है। इसलिए अपने खाने में संतरे, कीवी, टमाटर, ब्रोकोली और अन्य विटामिन सी वाले खाद्य पदार्थ शामिल करें। कैमोमाइल टी- अध्ययनों के अनुसार, कैमोमाइल टी चिंता के इलाज के लिए प्रभावी नेचुरल रेमेडी है।

799

कई लोग ये नहीं जानते कि ऐंज़ाइटी (anxiety) यानि घबराहट मेंटल डिसऑर्डर का ही एक विकार है। इससे धीरे-धीरे आपकी लाइफ प्रभावित हो सकती है। इतना ही नहीं इसके कारण आपको अपने रोजाने के काम भी जटिल लग सकते हैं। हालांकि आप अपनी डायट में सुधार करके इस समस्या से काफी हद तक छुटकारा पा सकते हैं। घबराहट के लक्षणों को कम करने के लिए ये सात चीजें जरूर खाएं।

बादाम और अखरोट- ये विटामिन ई, जिंक, मैग्नीशियम और बी 12 के अच्छे स्रोत हैं और चिंता या तनाव के दौरान इम्यून सिस्टम को बचाते हैं। इसलिए रोजाना तीन से चार बादाम या अखरोट खाएं।

कद्दू के बीज- इसमें एमिनो एसिड होता है, जो एल ट्रैपटोफैन से जाना जाता है। ये दिमाग में सेरोटोनिन का लेवल बदलने में सहायक है। सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर है, जो मूड को बैलेंस रखता है।

फर्मेन्टड फूड्स- अध्ययन के अनुसार, फर्मेन्टड फूड्स में प्रोबायोटिक्स होता है, जिस वजह से ये चिंता को कम करने में सहायक है। इसलिए आपको दही, ढोकला, इडली और डोसा जैसी चीजें खानी चाहिए।

मैग्नीशियम वाली चीजें- मैग्नीशियम दिमाग में कोर्टिसोल (Cortisol) का लेवल रेगुलेट करने में सहायक है। कोर्टिसोल तनाव कम करता है जिससे आप अच्छा महसूस करते हैं। इसके लिए आप पालक, केला, मछली जैसी चीजें खाएं।

ओमेगा -3 फैटी एसिड- अध्ययनों के अनुसार ओमेगा -3 फैटी एसिड से तनाव और चिंता को कम करने में मदद मिलती है। इसके लिए फ्लैक्ससीड, सैमन, अंडे, चिया सीड्स और सोयाबीन खाएं।

संतरे- विटामिन सी की कमी के कारण ऐंज़ाइटी डिसऑर्डर हो सकता है। इसलिए अपने खाने में संतरे, कीवी, टमाटर, ब्रोकोली और अन्य विटामिन सी वाले खाद्य पदार्थ शामिल करें।

कैमोमाइल टी- अध्ययनों के अनुसार, कैमोमाइल टी चिंता के इलाज के लिए प्रभावी नेचुरल रेमेडी है।